Please share :

AMP – Accelerated Mobile Pages Tutorial In Hindi

इस article में हम आपके लिए AMP – Accelerated Mobile Pages Tutorial In Hindi लेकर आये हैं। इसमें हम आपको बताएंगे की AMP क्या होता है और इसके फायदे और नुक्सान क्या हैं? अगर आप अपने mobile phone में internet का use कर रहे होंगे तो आपने ये बात ज़रुरु notice की होगी की बहुत सी websites और blogs के निचे AMP का सिंबल आता है जिसमे एक flash का sign होता है। क्या आपने ये बात notice की है की ये flash का sign क्या है और इससे किसी भी website को क्या फायदा होता है?

जैसे की हम सभी जानते हैं की जबसे market में smart phones आये तबसे इनका इस्तेमाल computer system के मुकाबले काफी हद तक बढ़ गया है। एक report में तो ये भी सामने आया है की दुनिया में करीब 75% लोगों के पास smart phone है जिन में से करीब 57% लोग internet का इस्तेमाल smart phone से ही करते हैं। इसी user experience को बेहतर करने के लिए google ने AMP की शुरुआत की ताकि कोई भी website mobile phone में easily खुल सके। तो चलिए दोस्तों आज का topic start करते हैं। AMP क्या है? AMP की full form है Accelerated Mobile Pages. Accelerated Mobile Pages एक open source framework है जो किसी भी pages को mobile friendly pages में change करता है ताकि कोई भी content easily डिलीवर हो सके। Basically ये एक application है जो कोई भी web pages को mobile friendly pages में change करता है। Accelerated Mobile Pages में html, cache libraries होती हैं जो किसी भी website को ज़्यादा user-friendly बनती हैं और इसमें rich content जैसे pdf, video और audio होने के बावजूद भी किसी भी mobile device में loading time को accelerate करती है।

Accelerated Mobile Pages किसी भी website mobile pages का bare-bone version होता है जो केवल उन्ही जीज़ों को load करता है जो किसी website के pages में important होती हैं और दूसरी ओर वो चीज़ें जो किसी website को load करने में समय लेती हैं उन चीज़ों को ये ignore करता है। इस प्रकार mobile pages automatically बहुत fast खुलते हैं जिससे users को website का content read करने में ज़्यादा समय मिल जाता है।

Benefits Of Accelerated Mobile Pages

1. ये website के loading time को speed up करता है। अगर आप mobile user हैं तो आने ये ज़रूर notice किया होगा की AMP की implementation के बाद website के loading time में काफी फर्क आया है। ये फालतू की extensions को load नहीं करता जिससे site फ़ास्ट खुलती है।

2. ये website की server performance को काफी improve करता है। sites fast खुलने के कारण website पर ज़्यादा traffic आता है और इससे server के ऊपर ज़्यादा असर नहीं पड़ता जिससे server performance बढ़ जाती है।

3. इसका तीसरा benefit ये है की ये ranking को बढ़ाने में मदद करता है। Sites फ़ास्ट खुलने के कारण website का response time काफी हद तक बढ़ जाता है और website पर traffic आना शुरू हो जाता है और mobile ranking बढ़ जाती है।

4. ये mobile users को surfing करने में मदद करता है। जैसे की आप भी जानते हैं की अगर mobile में कोई चीज़ slow load हो रही हो तो सर्फिंग करने में कितनी दिकत आती है। मगर AMP के आने के बाद loading time काफी हद तक कम हो गया है।

5. ये informational websites के लिए वरदान है क्योंकि इन websites में videos और photos नहीं बल्कि text ज़्यादा होता है। अगर ये फालतू की extensions हट जाएँ तो ये automatically fast हो जाता है।

Drawbacks Of Accelerated Mobile Pages

1. cache की मदद से website की performance तो बढ़ती है लेकिन ये उस website पर negative effects डालता है क्योंकि इसमें बहुत सी cache memory केवल website को store करने में ही इस्तेमाल हो जाती है।

2. AMP website की analytics के ऊपर बुरा असर डालता है। AMP google analytics को support ज़रूर करता है लेकिन इसके लिए AMP pages में बहुत सारे अलग-अलग tags का इस्तेमाल करना होता है और इसे implement करना इतना आसान नहीं होता। AMP कुछ मात्रा में analytics का usage website में काम कर देता है जो की website के ऊपर बुरा प्रभाव डालता है।

3. AMP add revenue को कम करता है। जैसे की हम सभी को पता है की AMPके इस्तेमाल से advertisements काफी हद तक काम हो जाती हैं जिससे add revenue में काफी घाटा होता है और bloggers को अपनी एअर्निंग में से कुछ हिंसा खोना पड़ता है।

4. E-Commerce websites के लिए AMP बिलकुल भी ठीक नहीं है क्यूंकि E-Commerce websites में सबसे ज़्यादा adds और इन websites में product को शो करने के लिए photographs ज़्यादा होती है और टेक्स्ट काम होता है।

5. इसका लास्ट drawback ये है की ranking factor इसके ऊपर निर्भर नहीं करता। गूगल ने साफ तोर पर कह दिया है की ranking factor के लिए AMP का कोई रोले नहीं है। जो bloggers ये सोच रहे हैं की AMP को implement करने से उनके ब्लोग्स के रैंक्स बढ़ जायेंगे तो ऐसा सोचना गलत है।

आज हमने AMP – Accelerated Mobile Pages Tutorial In Hindi में सीखा कि AMP क्या होता है और इसके फायदे और नुक्सान क्या हैं? तो अगर आपको ये article अच्छा लगा हो तो इसे ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करे और अगर कोई query हो तो आप निचे कमेंट section में पूछ सकते हैं।

 

Please share :
Author

Leave a Reply